संपादक-शम्भु चौधरी, पता: एफ.डी.-453, साल्टलेक सिटी, कोलकाता-700106. मोबाइल: 0-9831082737 email: manchsamachar@gmail.com

ताजा समाचार

लोकगीत ऐ प्रांण, आपणी संस्क्रति रा आपरी संस्कृति अर परम्परा रै पांण राजस्थान री न्यारी पिछाण। रणबंका वीरां री आ मरुधरा तीज-तिवारां में ई आगीवांण। आं तीज-तिवारां नै सरस बणावै अठै रा प्यारा-प्यारा लोकगीत। जीवण रो कोई मौको इस्यो नीं जद गीत नीं गाया जावै। जलम सूं पैली गीत, आखै जीवण गीत अर जीवण पछै फेर गीत। ऐ गीत इत्ता प्यारा, इत्ता सरस कै गावणिया अर सुणणियां रो मन हिलोरा लेवण लागै।

आपणी भाषा आपणी बात एक दिल से जुड़े मुद्दे के रूप में उदयपुर में `मायड़ भाषा´ स्तंभ से शुरू किया और राजस्थान की भाषा संस्कृति की रक्षा के लिए सर्वस्व न्यौछावर करने को आतुर लोगों ने मान लिया कि संवैधानिक दर्जा दिलाना अब भास्कर का मुद्दा हो गया है। - कीर्ति राणा, संपादक - दैनिक भास्कर ( श्रीगंगानगर संस्करण)

श्री अरूण डागा का परिचय इन दिनों संगीत की दुनिया में प्राइवेट एलबम की धूम मची हुई है। इसके लिये किसी भी गायक को अपनी पूरी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलता है। आज यहाँ हम कोलकाता के श्री अरूण डागा का परिचय आप सभी से करवातें हैं मूझे याद है जब श्री अरूण जी, गोपाल कलवानी के अनुरोध पर कोलकाता के 'कला मंदिर सभागार' में मारवाड़ी युवा मंच के एक कार्यक्रम- "गीत-संगीत प्रतियोगिता" में जैसे ही गाना शुरू किये सारा हॉल झूमने लगा था। once more... once more...

यह क्षेत्र इस्लामी कट्टरपंथियों के हाथ मुम्बई पर हुए आतंकवादी आक्रमण से एक सन्देश स्पष्ट है कि अब यदि समस्या को नही समझा गया और इसके जेहादी और इस्लामी पक्ष की अवहेलना की गयी तो शायद भारत को एक लोकतांत्रिक और खुले विचारों ......

झारखंड प्रान्त: स्थापना दिवस की तैयारी शुरू जमशेदपुर। अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच रजत जयंती वर्ष में प्रवेश कर रहा है। इस पल को यादगार बनाने के लिए मंच के सदस्य तैयारियों में जुट गये हैं। .......

सेटन हॉल यूनिवर्सिटी में गीता पढ़ना अनिवार्य अमेरिका की सेटन हॉल यूनिवर्सिटी में सभी छात्रों के लिए गीता पढ़ना अनिवार्य कर दिया गया है।इस यूनिवर्सिटी का मानना है कि छात्रों को सामाजिक सरोकारों से रूबरू कराने के लिए गीता से बेहतर कोई और माध्यम नहीं हो सकता है।......

डॉ.श्यामसुन्दर हरलालका निर्विरोध नये अध्यक्ष पूर्वोत्तर मारवाड़ी सम्मेलन की प्रादेशिक कार्यकारिणी बैठक एवं प्रादेशिक सभा की बैठक नगाँव में सफलतापूर्वक सम्पन्न हुई। बैठक को सफल बनाने में उपस्थित सभासदों का योगदान सराहनीय रहा। सभा में आगामी सत्र वर्ष 2009 एवं 2010 हेतु गौहाटी के डॉ.श्यामसुन्दर हरलालका को निर्विरोध नये अध्यक्ष के रूप में चुने गये।.......

उत्कल प्रान्तीय मारवाड़ी युवा मंच उत्कल प्रान्तीय मारवाड़ी युवा मंच की सप्तम प्रान्तीय कार्यकारिणी समिति की चतुर्थ बैठक एवं 19वीं प्रान्तीय सभा ‘प्रगति-2008’’ भारी सफलता के साथ सह राउरकेला शाखा के अतिथ्य में सम्पन्न हुई। ......

परिचय: श्री श्यामानन्द जालान 13 जनवरी 1934 को जन्मे श्री जालान का लालन पालन एवं शिक्षा-दीक्षा मुख्यतः कलकत्ता एवं मुजफ्फरपुर में ही हुई हैं। बचपन से राजनैतिक वातावरण में पले श्री जालान के पिता स्वर्गीय श्री ईश्वरदास जी जालान पश्चिम बंगाल विधान सभा के प्रथम अध्यक्ष थे।

दक्षिण दिल्ली शाखा के सौजन्य में 18 जनवरी 2009 को ’’ट्रेजर हण्ट कार रैली’’अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच द्वारा चलाये जा रहे देशव्यापी कन्या भ्रूण संरक्षण अभियान के अन्तर्गत देशभर में मंच की शाखाओं द्वारा विविध प्रकार के कार्यक्रमों के माध्यम से जन-जागृति अभियान चलाया जा रहा है।

Rajiv Ranjan Prasadसाहित्य शिल्पी ने अंतरजाल पर अपनी सशक्त दस्तक दी है। यह भी सत्य है कि कंप्यूटर के की-बोर्ड की पहुँच भले ही विश्वव्यापी हो, या कि देश के पूरब पश्चिम उत्तर दक्षिण में हो गयी हो किंतु बहुत से अनदेखे कोने हैं, जहाँ इस माध्यम का आलोक नहीं पहुँचता। यह आवश्यकता महसूस की गयी कि साहित्य शिल्पी को सभागारों, सडकों और गलियों तक भी पहुचना होगा। प्रेरणा उत्सव इस दिशा में पहला किंतु सशक्त कदम था।

हिन्दुस्तानी एकेडेमी का साहित्यकार सम्मान समारोह: Dr.Kavita Vachaknavee

इलाहाबाद, 6 फ़रवरी 2009 । "साहित्य से दिन-ब-दिन लोग विमुख होते जा रहे हैं। अध्यापक व छात्र, दोनों में लेखनी से लगाव कम हो रहा है। नए नए शोधकार्यों के लिए सहित्य जगत् में व्याप्त यह स्थिति अत्यन्त चिन्ताजनक है।"">

मंच एक कार्यशाला है

मारवाड़ी युवा मंच एक कार्यशाला है जहाँ समाज के नवयुवकों को न सिर्फ सामाजिक भावनाओं के साथ जोड़ा जाता है साथ ही उनके व्यक्तित्व को उभारने हेतु एक मंच भी दिया जाता है। मंच को एक शिक्षण संस्थान की तरह कार्य करने की जरूरत है न कि एक राजनीति मंच की तरह, इसके अनुभवी युवा वर्ग को मात्र एक शिक्षक की भूमिका अपनाने की जरूरत है। जबकि इसके विपरीत अनुभवी युवागण अधिकतर मंच की राजनीति में संलग्न पाये जातें हैं।

June 16, 2011

मारवाड़ी युवा मंच एक अवलोकन - शम्भु चौधरी

Shambhu Choudhary
विगत 75 वर्षों से देश के विभिन्न प्रान्तों में सामाजिक रूप से संगठित मारवाड़ी समाज की अनेक संस्थाएँ अपने-अपने कार्यक्षेत्र में कार्य करते हुए समाज के युवकों को भी संगठित कर उनके मानसिक व शारीरिक विकास को केंद्रीत कर कई योजनाओं को साकार करते रहे हैं। जिनमें प्रमुखतः मुम्मबई मारवाड़ी सम्मेलन, मारवाड़ी युवा सम्मेलन-गुवाहाटी, मारवाड़ी युवक संघ- वाराणसी, रानीगंज एवम् मारवाड़ी व्यायामशाला- कोलकाता, मुजफ्फरपुर व भागलपुर इसके अलावा सैकड़ों जगह* मारवाड़ी समाज ने चिकित्सालय, पुस्तकालाऐं, विद्यालयों, धर्मशालाओं आदि का निर्माण भी किये गये। इन सबके वाबजूद समाज के कुछ चिन्तशील युवकों में एक कमी हमेशा खटकती रहती कि मारवाड़ी समाज के युवकों का एक राष्ट्रीय स्तर का एक संगठन होना चाहिये। इस दिशा में अखिल भारतवर्षीय मारवाड़ी सम्मेलन लगातार प्रयासरत रही परन्तु अधिवेशनों में एक सत्र से आगे इनका प्रयास कभी भी सफल नहीं रहा। स्व. भंवारमल सिंघी व इनकी पत्नी स्व. श्रीमती सुशीला सिंघी के विचारों में इस बात की चिन्ता साफ झलकती दिखाई देती रहती कि देश में मारवाड़ी समाज का एक सुदृढ़ संगठन की नींव जल्द से जल्द रखी जानी चाहिये। इसी काल में श्री रतन शाह का नाम बड़ी तेजी के साथ उभर कर सामने आने लगा। देशभर में अयोजित मारवाड़ी सम्मेलन के अधिवेशनों में इनके भाषणों का विशेष प्रभाव समाज के युवकों में साफ प्रलक्षित होने लगा था। परन्तु सफल नेतृव का अभाव तब भी खटकता नजर आ रहा था।
सन् 1977 में असम के गुवाहाटी शहर में समाज के कुछ युवकों ने मिलकर पूर्वोत्तर प्रदेशीय मारवाड़ी सम्मेलन - युवा मंच का गठन कर लिया गया। यहाँ हम एक बात को उल्लेख करना जरूरी समझता हूँ कि यदि हम मंच के स्थापना काल की बात करें तो स्थापनाकाल के युवकों का नाम मंच के किसी भी दस्तावेज में पढ़ने को नहीं मिला। 1985 में आयोजित मायुम के प्रथम राष्ट्रीय अधिवेशन में बतौर स्वागत मंत्री श्री अनिल जैना ने अधिवेशन के अवसर निकाले गये विशेषांक में जिनके नामों का उल्लेख किया वे इस प्रकार हैं ^^अधिवेशन के प्रचारार्थ श्री नन्द किशोर जालान[स्व.], अध्यक्ष-अखिल भारतवर्षीय मारवाड़ी सम्मेलन द्वारा दिया गया समयदान एवं किया गया श्रमदान युवामंच के अधिकारियों के लिये अनुकरणीय आदर्श रहेगा। श्री डॉ गिरधारी लाल सराफ[स्व.], महामंत्री-पूर्वोत्तर प्रदेशीय मारवाड़ी सम्मेलन एवं श्री जयदेव खंडेलवाल [स्व.], अध्यक्ष-पूर्वोत्तर प्रदेशीय मारवाड़ी सम्मेलन का अधिवेशन के प्रचारार्थ अवदान न केवल सराहनीय रहा, बल्कि युवा साथियों के लिये प्रेरणा का स्त्रोत भी बना। इस संदर्भ में युवा साथी श्री हरि प्रसाद शर्मा, श्री विनोद मोर, श्री पवन सीकारीया, श्री मुरलीधर तोशनीवाल, श्री सरोज जैन, श्री कमल अगरवाल, श्री निरंजन धीरसरीया, श्री संजीव गोयल, श्री प्रमोद जैन, श्री प्रकाश पंसारी आदि का सहयोग न केवल उल्लेखनीय है बल्कि अधिवेशन की कल्पित सफलता का मूल कारण भी।**

मारवाड़ी युवा मंच का सांगठनिक ढांचा त्रीस्तरीय प्रणाली है। जिसका संचालन अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच के संविधान में वर्णीत नियमों व मंच दर्शन के अन्र्तगत कार्य करता है। जिसमें 18 साल से 45 वर्ष के युवक व युवतियों को ही सदस्य बनाया जा सकता है। मंच के सक्रिय सदस्य 45 वर्ष की आयु तक रहा जा सकता है जबकि इसमें प्रवेश की आयु सीमा 40 तक ही है। सन् 1984 में पूर्वोत्तर प्रादेशिक मारवाड़ी सम्मेलन-युवा मंच के प्रान्तीय अध्यक्ष श्री सुरेश बेड़िया के सदप्रयासों के परिणाम स्वरूप 17 जनवरी, 1985 को अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच प्रथम राष्ट्रीय अधिवेशन गुवाहाटी के प्रसिद्ध गौशाला के प्रगंण में हुआ जिसमें मंच संगठन के प्राण सूत्रधार समाज के असम के वरिष्ठ अधिवक्ता व चिन्तक श्री प्रमोद्ध सराफ ने संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष का पदभार ग्रहण किया। प्रथम राष्ट्रीय अधिवेशन के दौरान असम के बहार जिन जगहों के दौरे किये गए वे निम्न प्रकार है।-
1. 23 नवम्बर से 7 दिसम्बर, 84 तक उत्तर बंगाल व उत्तर-पूर्व बिहार जिनमें सर्वश्री नन्दकिशोर जालान [स्व.], प्रमोद्ध सराफ, हरिप्रसाद शर्मा, पवनकुमार सिकारिया व बिनोद कुमार मोर जिसमें श्री जालान जी कोलकाता से बाकी सभी असम से थे।
2. 16 से 23 दिसम्बर, 84 उत्कल व दक्षिण बिहार जिनमें सर्वश्री गिरधारीलाल सराफ [स्व.], हरिप्रसाद शर्मा, मुरलीधर तोषनीवाल एवं सरोजकुमार शर्मा सभी असम से।
3. 29 दिसम्बर 84 से 8 जनवरी 85 दक्षिण भारत, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटका, आन्ध्र प्रदेश व तामिलनाडु इस यात्रा में सर्वश्री नन्दकिशोर जालान[स्व.]- कोलकाता, निरंजन लाल धिरासारिया-असम, संजिव गोयल-असम, रामनिवास शर्मा [स्व.] व भगतराम गुप्ता- आन्ध्रा।
क्रमवार विगत राष्ट्रीय अधिवेशन की तालिका निम्न प्रकार हैः-
1. 18-20 जनवरी, 1985-88 गुवाहाटी -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री प्रमोद्ध सराफ,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री पवन सिकारिया
2. 08-10 अप्रैल, 1988-91 दिल्ली -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री अरुण बजाज,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री निर्मल दोषी
3. 23-25 फरवरी, 1991-94 सिल्लीगुड़ी -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री ओम प्रकाश अग्रवाल,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री संतोष कानोडिया
4. 21-23 जनवरी, 1994-96 कोलकाता -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री पवन सिकरीया,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री राजकुमार गारोदिया[स्व.]
5. 27-29 दिसम्बर, 1996-2000 धनबाद -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री प्रमोद शाह,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री महेश शाह
6. 07-09, जनवरी, 2000-2002** जमशेदपुर -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री अनिल जैना,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रमोद जैन
7. 29-31 दिसम्बर, 2002-2006 कटक -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री बलराम सुल्तानिया,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री पुरुषोत्तम शर्मा
8. 31दिसम्बर से 2जनवरी 2006-2008 रायपुर -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री अनिल जाजोदिया,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री मनमोहन लोहिया
9. 25-28 दिसम्बर, 2008-2011 रांची -राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री जितेन्द्र गुप्ता,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री संजय अग्रवाल(डॉक्टर एक्यूप्रेशर चिकित्सा)
आज मंच 600 से अधिक सक्रिय शाखाओं व 30 हजार से अधिक सदस्यों के माध्यम से देशभर में अपनी लोकप्रियता प्राप्त कर गत वर्ष ही अपना 25वां सालगिरह मना चुकी है। मंच के प्रमुख उद्देश्य में सबसे प्रथम में हमारी यह योजना रही कि समाज के युवकों को एक सूत्र में पीरो हम किस जनउपयोगी कार्यों में लगाना रहा है। एक समय इस प्रकार का दौर भी सामने आया कि समाज के युवक खुद को मारवाड़ी कहलाने में संकोच करने लगे थे। हम अपने आत्म सम्मान के प्रति काफी चिंतित रहने लगे। जगह-जगह मारवड़ी समाज अभद्र टिप्पणियों का शिकार होने लगा था। गुजराती शब्दकोश, फिल्मी धारावाहिक सीरियल, राजनेताओं के अपमान जनक बयान समाज के युवकों को झकझोर दिया।
उस समय असम में छात्र आन्दोलन काफी जोरों पर था, असमगण परिषद के आन्दोलन से समाज के हजारों युवक जुड़ चुके थे। परन्तु समाज के युवकों को बार-बार एक बात खटकती रही कि समाज के युवक दिशाहीन होने से किस तरह रोका जा सके। जो युवक पढ़ लिख नौकरी करने लगते वे या तो खुद को समाज से अलग समझने लगते या समाज में पैसे की प्रतिष्ठा के आगे उनकी पहचान लुप्त नजर आती। कुछ तो समाज को असभ्य समाज तक कहने में संकोच नहीं करते। स्व. भंवरमल सिंघी जी ने अपनी डायरी में एक बार लिखा कि जब वे वाराणसी विश्वविद्यालय में पढ़ते थे तो बिहार या असम की तरफ से आने वाली ट्रेनों में मारवाड़ियों को देख उन्हें बड़ा सदमा होता कि यह समाज कितना अनपढ़ और रूढ़ीवादी परम्परा से ग्रस्त है। उनके दिमाग में मारवाड़ी समाज की छवि बहुत बिगड़ चुकी थी, सो उन्होंने खुद को राजस्थानी समझना ही बेहतर विकल्प समझा। पर पढ़ाई समाप्त कर उनको कार्य करने के लिए कोलकाता आना हुआ, कोलकाता आने पर उनको लगा कि समाज में सिर्फ पैसेवाले की पूछ होती है। इसी कार्यकाल में स्व. सीताराम सेक्सरिया, स्व.भागीरथ कानोडिया एवं सम्मेलन के श्री ईश्वरदास जालान से उनकी मुलाकात ने उनके विचारों को झकझौर दिया। समाज में बदलाव का दौर शुरू होने लगा। देश के हर कोने से आवाज आने लगी। एक अखबार में छपे लेख से वे इतने विचलित हुए कि उन्होंने जबाब में एक लेख लिखा- ‘‘मैं मारवाड़ी हूँ’’ इस लेख की सारे देश से प्रतिक्रिया आने लगी। हिन्दी साहित्यवर्ग सिंघी जी इस स्वरूप को देख चकित हो गये। प्रायः सम्मेलनों में उनका मुख्य विषय समाज सुधार जिसमें विधवा विवाह, प्रर्दा प्रथा एवं समाज की राजनीति में सक्रिय भागीदारी के साथ-साथ युवकों को सामने आकर समाज की बागडोर संभालने हेतु मारवाड़ी युवकों को ललकारना शुरू किया। समाज के पढ़े लिखे युवक व संपन्न घराना खुद को लायन्स-लियो मानने लगे। जबकि मारवाड़ी कहलाने में संकोच करते थे। एक तरफ समाज में सांस्कृतिक हमला हो रहा था तो दूसरी तरफ समाज का धन समाज के द्वारा जनसेवा में खर्च होने के वावजूद मारवाड़ियों को गाली सुननी पड़ती। इसी दौरान असम के युवा साथियों ने कसम ले ली कि किसी भी तरह समाज के युवकों को एक सूत्र में पिरोया जाय।
मंच ने समाज और राष्ट्र की प्रमुख समस्याओं को ध्यान में रखते हुए मंच दर्शन का निर्माण श्री प्रमोद्ध सराफ के दिशा निर्देशन में किया गया। मंच दर्शन के निर्माण में जिन बिन्दूओं को समाहित किया गया उनमें प्रमुख हैं- युवकों का व्यक्तित्व निर्माण, दिशाहीन युवा शक्ति को सुसंगठित कर उनका मार्ग दर्शन करना, समाज व राष्ट्र के प्रति उनके उत्तरदायित्व का बोध व समग्रोन्नति हेतु उन्हें उत्साहित व प्ररित करना। इसके अलावा देश और समाज की उन्नति के लिये किसी भी रचनात्मक सहयोग, समाज द्वारा किये अथवा किये जाने वाले कार्यों की समीक्षा, सामाजिक प्रतिष्ठा का सुदृढ़ीकरण, समाज में स्वाभिमान एवं आत्मबल का निर्माण व संचार कर शैक्षणिक, शारीरिक, चारित्रिक, राजनैतिक के प्रति समाज के युवकों को निरन्तर जागरूक बनाये रखते हुए अपने परिवार व व्यवसाय के प्रति अपने कर्तव्यों का ईमानदारी के साथ निर्वाहन करते हुए समाज में व्याप्त कुरीतियों जैसे दहेज, विवाह शादियों में फिजूलखर्ची व आडम्बर, शादी समारोह के अवसर पर बधू पक्ष पर अनैतिक दबाव, धार्मिक आडम्बर आदि का पुरजोर विरोध करना मंच का प्रमुख मानते हुए जनसेवा को प्राथमिकता देने का लक्ष्य रखते हुए ‘मंच दर्शन’ को निम्न पांच सूत्रों में पिरोया गया है। जो निम्न प्रकार है।-
(1) मंच आधार : जनसेवा कार्य
(2) मंच भाव : समाज सुधार
(3) मंच शक्ति : व्यक्ति विकास
(4) मंच चाह : सामाजिक सम्मान और आत्म-सुरक्षा
(5) मंच लक्ष्य : राष्ट्रीय विकास एवं एकता

आज मारवाड़ी युवा मंच अखिल भारतीय स्तर की एक क्रियाशील संस्था के रूप में पूरे भारत में अपनी पहचान बना चुकी है। जहाँ एक तरफ समाज में मंच के प्रति आस्था जगी है तो दूसरी तरफ समाज के युवकों में पिछले दो दशक में काफी परिर्वतन देखने को मिला है। आज समाज के युवक खुद को मारवाड़ी कहलाने में गार्व की अनुभूति करते हैं। लोगों ने मंच के सदस्यों में विश्वास व्यक्त किया है। इस विश्वास को कायम रखना मंच के प्रत्येक सदस्यों की जिम्मेदारी बनती है। इसके लिए जहाँ एक तरफ पुराने कार्यकर्ताओं का सम्मान वहीं नये युवकों की प्रतिभा का विकास हमें निरन्तर करते रहना होगा। आज हम नासिक शहर में दशम राष्ट्रीय अधिवेशन करने की योजना को मुर्त रूप देने जा रहें हैं अधिवेशन स्थल के उद्घाटन व समापन समारोह को छोड़ कर अधिक समय विभिन्न प्रान्तों से आये प्रतिनिधियों के विकास व संगठन को सुदृढ़ करने की योजनाओं पर हमें केन्द्रित रहना चाहिये। जय समाज! [end] Search: Marwari Yuva Manch, Shambhu Choudhary, Marwari, Marwari Samaj.


* http://samajvikas.blogspot.com/2010/12/blog-post.html
**07-09, जनवरी 2000-2002 जमशेदपुर - राष्ट्रीय अध्यक्षः श्री अनिल जैना,
राष्ट्रीय महामंत्री श्री डॉ. प्रदीप जैन, गोहाटी (प्रथम डेढ़ वर्षों के लिए) श्री प्रमोद जैन, गोहाटी (बाद के डेढ़ वर्षों के लिए)

युवा मंथन २०११


युवा मंथन २०११
"दशम राष्ट्रीय अधिवेशन"
"प्रथम विश्व सम्मलेन "
आंतरराष्ट्रीय व्यापार- उद्योग परिषद
आयोजक : महाराष्ट्र प्रादेशिक मारवाडी युवा मंच
संयोजन : मारवाडी युवा मंच - शाखा नासिक सिटी Manch
दिनांक : ११-१३ नवंबर २०११
स्थान : छत्रपति शिवाजी महाराज नगरी,
डोंगरे वसतिगृह, गंगापुर रोड, नासिक
एक से अनेक होकर लौटें मंच सदस्य
आगामी 11-13 नवंबर 2011 को नासिक (महाराष्ट़) में मारवाड़ी युवा मंच, नासिक सिटी शाखा के आथित्य में मारवाड़ी युवा मंच का दशम राष्ट्रीय अधिवेशन होने जा रहा है, मंच सदस्यों की इस अधिवेशन में कैसी सहभागिता हो, इस पर हमें चर्चा करनी चाहिये ताकी हम सभी मिलकर इस अवसर का अधिक से अधिक लाभ लें सकें, ना कि पिछले अधिवेशनों की कमियों व खामियों की चर्चा में अपना वक्त जाया करें। मैं समझता हूँ कि अधिवेशन के आयोजकों के प्रयास को तभी बल मिलेगा जब हम उनके कार्यों में अपनी सहभागिता निभायें, वजायें इसके पिछले अधिवेशनों के आयोजकों द्वारा हुई भूलों को मुद्दा बनाकर नई समस्या खड़ी कर दें। हर अधिवेशनों से मंच के सदस्य एक से अनेक होकर लौटते रहें हैं, यह क्रम आगे भी जारी रहना चाहिये। मैं अधिवेशन की सफलता हेतु अपनी शुभकामनाऐं प्रेषित करता हुँ। - शम्भु चौधरी, कोलकाता

June 9, 2011

वरिष्ठ समाजसेवी श्री नन्दकिशोर जालान का निधन



कोलकाता महानगर में 1 सितम्बर 1924 में जन्में वरिष्ठ समाजसेवी श्री नन्दकिशोर जालान जी का आज 8 जून 2011 को दोपहर तीन बजे शहर के एक अस्पताल में हृदयाघात के कारण निधन हो गया। कल रात अचानक उनके सीने में दर्द होने के चलते उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। आज शाम को 7.30 बजे नीमतल्ला घाट में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया इस अवसर पर बड़ी संख्या में समाज के लोग शामिल हुए जिनमें प्रमुख रूप से श्री रतन शाह, श्री विशम्भर नैवर, श्री सीताराम शर्मा, श्री शम्भु चौधरी, श्री प्रमोद शाह, श्री आत्माराम सोंथलिया, श्री संजय हरलालका, श्री रामअवतार पोद्दार, श्री रवि लड़िया, एवं श्री ओमप्रकाश पोद्दार आदि प्रमुख थे। इस घटना का समाचार फैलते ही शहर में शोक की लहर दौड़ गई। अखिल भरतवर्षीय मारवाड़ी सम्मेलन के पूर्व अध्यक्ष श्री सीताराम शर्मा एवमं अखिल भारतीय मारवाड़ी युवामंच के संस्थापक अध्यक्ष श्री प्रमोद्ध सराफ इनके निधन को समाज की अपूरणीय क्षति बताया। श्री रतन शाह ने इस घटना पर अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि श्री जालान जी दो पीढ़ी के एक कड़ी के सामाजिक व्यक्तित्व थे। इनके निधन से समाज सुधार के क्षेत्र मे कार्य करने वाले कार्यकर्ता की पुरानी कड़ी समाप्त हो गई।

सन् 1924 जन्में श्री नन्द किशोर जालान 26 वर्ष की आयु में आप अखिल भरतवर्षीय मारवाड़ी सम्मेलन के महामंत्री बने। उस कालखण्ड में बरार केसरी एवं मध्य प्रदेश के वित्तमंत्री श्री बृजलालजी बियानी सम्मेलन के अध्यक्ष थे। आपने समाज सुधार के कई कार्यक्रम आयोजित कराए जिनमें पर्दा प्रथा का बहिष्कार विधवा विवाह को स्वीकृति और दहेज विरोध आदि प्रमुख थे। आपने स्त्री शिक्षा पर जोर दिया और आग्रह किया कि समाज के लोगों को व्यापार के अतिरिक्त राजनीति में भी प्रवेश करना चाहिए। आपने समाज के लोगों पर होने वाले अत्याचारों का मुश्तैदी से सामना किया। 1974 में जब श्री भंवरमल सिंघी सम्मेलन के अध्यक्ष बने तो श्री नन्दकिशोरजी जालान को पुनः प्रधानमंत्री निर्वाचित किया गया। आप 1979 में सम्मेलन के उपसभापति निर्वाचित हुए और सन् 1982 में जमशेदपुर अधिवेशन में सभी प्रांतों के सदस्यों ने आपको सम्मेलन का अध्यक्ष निर्वाचित किया। आपके नेतृत्व में विवाह योग्य युवक युवतियों का परिचय सम्मेलन व सामूहिक विवाह आदि कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। आपकी चेष्टा से सम्मेलन की पत्रिका समाज विकास का पुनः प्रकाशन 1958 से आरम्भ हुआ। समाज विकास के सम्पादन में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

समाज गौरव श्री नन्दकिशोर जालान


Nand Kishore Jalan
अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच के नवम राष्ट्रीय अधिवेशन के दूसरे दिन समाज गौरव सम्मान का राष्ट्रीय अलंकरण व सम्मान अखिल भारतवर्षीय मारवाड़ी सम्मेलन के पूर्व अध्यक्ष एवं युवा मंच के मार्गदर्शक नन्दकिशोर जालान को दिया गया । अधिवेशन में श्री जालान जी ने अपनी अस्वस्थ्यता के चलते जाने में असमर्थता व्यक्त की थी, इसलिये गत 22 जनवरी 2009 शाम 5.30 बजे अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच के निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अनिल के.जाजोदिया, अखिल भारतवर्षीय मारवाड़ी सम्मेलन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री नन्दलाल रूँगटा व निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सीताराम शर्मा, सम्मेलन के राष्ट्रीय महामंत्री श्री रामावतर पोद्दार, समाज विकास के कार्यकारी संपादक श्री शम्भु चौधरी, श्री कैलाशपति तोदी, श्री दीलीप गोयनका, श्री मुकेश खेतान, व श्रीमती अनुराधा खेतान ने कोलकाता स्थित उनके निवास पर जाकर उक्त सम्मान उन्हें भैंट किया गया था।


1930 में स्थापित कलकत्ता चेम्बर ऑफ कामर्स के आप 1970 में अध्यक्ष निर्वाचित हुए एवं इन्हीं के सभापतित्व में 1980 में चेम्बर की 150वीं स्थापना तिथि मनाई गई थी। श्री विशुद्धानन्द सरस्वती मारवाड़ी अस्पताल के आप 1973 में मंत्री निर्वाचित हुए एवं पुनः 1987 में इन्हें यह भार दिया गया। सुप्रसिद्ध पोद्दार छात्र निवास जिसे 1935 में मारवाड़ी छात्र निवास के नाम से आरम्भ किया गया था से आपका गहरा संबंध रहा। 1978 में मंत्री 1992 से आप अध्यक्ष रहे। श्री नवलगढ़ विद्यालय के विकास एवं विस्तार में आपकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है।
सम्मेलन के प्रति पूर्णतया समर्पित एक निष्काम कर्मयोगी भावी पीढ़ी के प्रेरणा स्रोत सतत् संघर्षशील समाज के अग्रदूत के निधन से समाज को अपूरणीय क्षति हुई है।

May 29, 2011

राजस्थानी शब्द का प्रयोग - शम्भु चौधरी


Rajputana Prant Before Independence of India
धीरे-धीरे मारवाड़ी शब्द संकुचित और रूढ़ीगत दायरे की चपेट से बाहर आने लगा है। अब यह शब्द देश के विकास का सूचक बनता जा रहा है। एक समय था जब इतर समाज के साथ-साथ समाज के लोग भी इसे घृणा का पर्यावाची सा मानने लगे थे। समाज के जो युवक पढ़-लिख लेते थे वे अपने आपको न सिर्फ समाज से अलग मानते थे, वरण कई ऐसे भी थे जो अपने नाम के आगे जाति सूचक टाइटल को भी हटा दिया करते थे ताकी उनको सरकारी नौकरी करने में सहुलियत हो। इसके प्रायः दो करण थे- पहला समाज में सरकारी नौकरी करना अच्छा नहीं माना जाता था। दूसरा नौकरी करने वाले बच्चे की शादी समाज के भीतर करना एक टेढ़ी खीर के बराबर थी। आज भी समाज में ऐसे लोग भरे पड़े हैं जिसमें हम रिजर्व बैंक के पूर्व गर्वनर श्री विमल जालान का नाम उदाहरण के तौर पर रखा जा सकता है। जबकी इनके पिता स्व. ईश्वरदास जालान जाति सूचक शब्द ‘मारवाड़ी’ में पूरी आस्था रखते थे एवं जाति सूचक ‘मारवाड़ी’ शब्द से शुरू की गई संस्था ‘‘मारवाड़ी सम्मेलन’’ के जन्मदाता के रूप में आपका नाम लिखा जाता है। कई बार हरियाणा के मारवाड़ी राजस्थानी शब्द को लेकर विचलित हो जाते हैं। कई सभाओं में इस बात का विवाद अनजाने में ही शुरु हो जाता है कि सभा में या संविधान में सिर्फ राजस्थानी भाषा और संस्कृति पर ही चर्चा क्यों होती है इस तरह क अनसुलझे प्रश्न सामने आते रहते है। जिसका समाधान भी खोजा जाता है, चुकिं उपयुक्त उत्तर के अभाव में विवाद को टालने के लिए सिर्फ ‘मारवाड़ी’ शब्द का प्रयोग किया जाता रहा है।
जहाँ तक मेरा मानना है कि ‘मारवाड़ी’ - शब्द न कोई जाति, न धर्म और न ही किसी विषेश प्रान्त का ही द्योतक है जैसे- पंजाबी, बंगाली, गुजराती आदि कहने से अहसास होता है। राजस्थान व राजस्थानी सीमावर्ती इलाके जिसमें हरियाणा व पंजाब के कुछ हिस्से जो कालांतर भौगोलिक रेखाओं में परिवर्तन के चलते इन प्रान्तों में राजपुताना रियासतों का विलय कर दिया गया को, के प्रवासी लोगों को भारत के अन्य प्रान्तों या विदेशों में भी ‘मारवाड़ी’ शब्द से जाना व पहचाना जाता है। जबकि इन सबकी संस्कृति और भाषा राजस्थानी ही है। ( मुसलमानों को छोड़कर )।
यहाँ पंजाब और हरियाणा क्षेत्र के राजस्थानी जो एक समय राजपुताना के क्षेत्र में ही आते थे, अब भूगौलिक परिवर्तन व पंजाब और हरियाणा प्रान्तों के रूप में जाने व पहचाने जाने के चलते इस क्षेत्र का मारवाड़ी समाज अपने आपको पंजाबी या हरियाणवी ही मानने लगे हैं, जबकि इनकी बोलचाल-भाषा, पहनावे, रीति-रिवाज, राजस्थानी भाषा संस्कृति से मिलते ही नहीं राजस्थानी संस्कृति ही है। इसीलिए प्रवासी मारवाड़ी समाज के लिये आमतौर पर राजस्थानी शब्द का ही प्रयोग किया जाता है भले ही वे हरियाणा या पंजाब के सीमावर्ती क्षेत्र से ही क्यों न आतें हो। पिछले दिनों यह प्रश्न उठा कि मारवाड़ी से तात्पर्य जब राजस्थानी भाषा और संस्कृति से ही लगाया जाता है तो हरियाणा की क्या कोई अपनी संस्कृति नहीं है? यह प्रश्न आज की युवा पीढ़ी का उठाना वाजिब सा लगता है जब हरियाणा एक समय पंजाब के अन्तर्गत आता था तो यह बात पंजाब के साथ भी उठती थी की हरियाणा की अपनी अलग संस्कृति है इसे पंजाब से अलग कर दिया जाय और हुआ भी और केन्द्र ने यह स्वीकार किया कि हरियाणा को एक अलग राज्य का दर्जा देना ही उचित रहेगा। परन्तु इस राज्य के अलग दर्जे को प्राप्त कर लेने से जो क्षेत्र राजस्थानी रियासतों के अधिन आते थे उनकी भाषा, संस्कृति, पहनावे, खान-पान, रीति-रिवाज हो या पर्व-त्यौहार सभी में समानता पाई जाती है जो थोड़ा बहुत अन्तर पाया जाता है वह सिर्फ आंचलिक बोली का ही है। ( देखें दिये गये एक चित्र के तीर निशान को जिसमें हिसार, भिवानी, रोहतक, गुड़गावं, लेहारू, महेन्द्रगढ़, पटियाला और दिल्ली का भी छोटा सा भाग राजपुताने क्षेत्र में दिखाया हुआ है। जो इन दिनों हरियाणा राज्य में आते हैं। ) इसलिए राजस्थानी शब्द की व्यापकाता पर हमें सोचने की जरुरत है न कि प्रान्तीयता के नजरिये से होकर हमें अपने अन्दर संकुचित विचार पैदा करने की।